चीन सीमा: ITBP की बढ़ेगी ताकत, बुनियादी ढांचे में होगा बदलाव

सरकार ने भारतीय तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के लिए अगले कुछ सालों में नौ नई बटालियन , एक रणनीतिक सेक्टर मुख्यालय , एक दर्जन गश्ती कैंप और 47 नई सीमा चौकियां बनाने का अहम नीतिगत फैसला किया है।  प्राप्त सरकारी नोट के हिसाब से केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस सीमाबल की विभिन्न संचालन सीमा सुरक्षा जरुरतों को पूरा करने के लिए पिछले महीने एक बैठक की थी। आईटीबीपी पर 3,488 किलोमीटर लंबी भारत चीन सीमा की सुरक्षा की जिम्मेदारी है।

प्रस्ताव के अनुसार गृह मंत्रालय ने नौ बटालियनें (जिसमें 9000 कर्मी होंगे), एक पूर्वोत्तर राज्य में चीन सीमा पर एक सेक्टर मुख्यालय, 47 नई सीमा चौकियों, 12 स्टेजिंग कैंप स्थापित करने तथा लद्दाख एवं अरुणाचल प्रदेश क्षेत्र में 18 सीमा चौकियों में आईटीबीपी की ताकत बढ़ाने को सैद्धांतिक मंजूरी दी।

अगले महीने शुरू होगी नई भर्ती

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि अगले महीने तक मंजूरी मिलने के साथ ही आईटीबीपी नई बटालियनों के लिए नई भर्ती शुरु कर देगा और निचले स्तर पर करीब 6000 कर्मियों की वर्तमान रिक्तियों को भी भरेगा। अंतिम चीज जिसे केंद्रीय गृह मंत्रालय से मंजूरी मिलनी है, वह बजटीय आवंटन है।

अधिकारी ने बताया कि नए सेक्टर मुख्यालय की अगुवाई उप महानिरीक्षक स्तर का कोई अधिकारी करेगा तथा ऐसी संभावना है कि अरुणाचल और सिक्किम में बल की तैनाती पर निगरानी के लिए अरुणाचल प्रदेश में यह मुख्यालय होगा। वास्तविक नियंत्रण रेखा पर बार-बार अतिक्रमण और चीनी सेना के साथ लगातार टकराव की घटनाओं को आईटीबीपी द्वारा अपने कर्मियों की संख्या, बुनियादी ढांचे और साजो सामान बढ़ाने की वजह के रुप में देखा जा रहा है।

About सीमा संघोष ब्यूरो

View all posts by सीमा संघोष ब्यूरो →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *