प्रधानमंत्री ने दिया ममता बनर्जी को संदेश

कर्नाटक में भाजपा की जीत को ऐतिहासिक बताने के साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर जोरदार हमला बोला है। उन्होंने पश्चिम बंगाल में पंचायत चुनाव के दौरान हुई हिंसा को लोकतंत्र की हत्या करार दिया है। इसके साथ ही मोदी ने बहुमत से थोड़ी कम सीटें रहने के बावजूद कर्नाटक की जनता को राज्य के विकास में कंधे-से-कंधा मिलाकर काम करने का भरोसा भी दिया।

कर्नाटक चुनाव परिणाम के बाद पार्टी मुख्यालय में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि पश्चिम बंगाल के पंचायत चुनावों में जो कुछ हुआ है, वह लोकतंत्र के लिए चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में बैलेट पेपर लूटे गए, मतदाताओं को वोट डालने से रोका गया। कई बैलेट बाक्स तालाबों से निकल रहे हैं। ऐसे कुछ मामले सामने आए हैं और कई सामने नहीं आ पाए हैं। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल ने पूरी एक शताब्दी तक देश को दिशा देने का काम किया है। लेकिन, ऐसे महान लोगों की धरती को राजनीतिक स्वार्थ के लिए लहुलुहान कर दिया गया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि लोकतंत्र में कौन जीतता है, कौन हारता है यह महत्वपूर्ण नहीं है। उन्होंने कहा कि न्यायपालिका और सिविल सोसाइटी सभी को पश्चिम बंगाल में लोकतंत्र के सीने पर तो घाव को ठीक करने के लिए सभी को अपनी भूमिका अदा करनी ही होगी। ममता बनर्जी पर लोकतंत्र की हत्या का आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री ने भाजपा को पूरी तरह से लोकतांत्रिक तरीके से चलने वाली पार्टी बताया।

उन्होंने कहा कि भाजपा के हिंदी भाषी इलाके की पार्टी होने का दुष्प्रचार लंबे से किया जाता रहा है। लेकिन सच्चाई यह है कि गुजरात, महाराष्ट्र, असम समेत पूर्वोत्तर के सभी राज्यों में कोई भी हिंदी भाषी नहीं है। फिर भी भाजपा की वहां सरकार है। कर्नाटक की जनता ने भी इस दुष्प्रचार को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि भाजपा देश के हर क्षेत्र के लोगों के साथ मिलकर काम करने वाली पार्टी है और कर्नाटक की विकास यात्रा में कंधे से कंधे मिलाकर काम करेगी।

वहीं अमित शाह ने कर्नाटक के चुनाव परिणाम को कांग्रेस की वंशवाद, भ्रष्टाचार ओर विभाजनकारी नीतियों के खिलाफ बताया है। शाह ने कहा कि कर्नाटक की जनता ने कांग्रेस की इन नीतियों खारिज कर दिया है। इसके बजाय जनता ने मोदी सरकार की साफ-सुथरी और विकास की राजनीति पर मुहर लगाई है।

About सीमा संघोष ब्यूरो

View all posts by सीमा संघोष ब्यूरो →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *