भारत ने रचा इतिहास, आज के दिन को इतिहास से कोई नहीं मिटा पाएगा : प्रधानमंत्री मोदी

सरदार वल्लभभाई पटेल की 143वीं जयंती आज, भारत के पहले गृह मंत्री व लौह पुरुष की प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ का हुआ अनावरण 

भारत के पहले गृह मंत्री लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल की 143वीं जयंती पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज उनकी प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ का अनावरण किया। 182 मीटर ऊंची यह प्रतिमा दुनिया में सबसे ऊँची है। इस प्रतिमा के निर्माण में करीब 3000 करोड़ रुपए खर्च किए गए। प्रतिमा अनावरण के साथ ही यह दर्शनीय स्थल आम जनता के लिए खोल दिया गया। 

इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि “देश ने इतिहास रचा है। आज के दिन को इतिहास से कोई नहीं मिटा पाएगा। कभी नहीं सोचा था कि मुझे अनावरण करने का मौका मिलेगा, मैं भाग्यशाली हूं कि मुझे यह अवसर प्राप्त हुआ। यह देशवासियों के लिए ऐतिहासिक और प्ररेणादायक अवसर है। स्टैच्यू ऑफ यूनिटी बनाने में पूरे भारत के लाखों किसान भागीदार हुये हैं। उन्होंने अपने उपकरण और मिट्टी के हिस्से दिए हैं और उनकी तन्मयता ने इस परियोजना को जन आंदोलन बना दिया।”


यह प्रतिमा नर्मदा नदी पर मौजूद सरदार सरोवर बांध से करीब 3.5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। मूर्ति बनाने वाली कंपनी एल एण्ड टी के मुख्य कार्यपालक अधिकारी एवं प्रबंध निदेशक एस एन सुब्रमण्यन के अनुसार, “स्टैच्यू आफ यूनिटी जहां राष्ट्रीय गौरव और एकता का प्रतीक है वहीं यह भारत के इंजीनियरिंग कौशल तथा परियोजना प्रबंधन क्षमताओं का सम्मान भी है.”

About सीमा संघोष ब्यूरो

View all posts by सीमा संघोष ब्यूरो →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *