love jihad

भारतीय संस्कृति पर प्रहार : लव जिहाद

धर्म एव हतो हन्ति धर्मो रक्षति रक्षितः सनातन संस्कृति के मूल में ही निर्मल भाव है, जिस कारण इसको मानने वाले लोग भी निश्चल हृदय के होते हैं।यह कोई नया …

Read More

भारत के पहले सशस्त्र क्रांतिकारी: वासुदेव बलवंत फड़के

परतंत्र भारत में मां भारती के अनेक वीरों ने भरत भू को स्वतंत्र कराने हेतु अपने प्राणों की आहुति दे दी। उन्हीं वीरों की श्रंखला में एक नाम है वासुदेव …

Read More

15 August: देश की आजादी में रहा है आरएसएस का महत्वपूर्ण योगदान, जानें संघ का इतिहास और उद्देश्य

संघ के संस्थापक डॉ केशव राव बलिराम हेडगेवार की दूरगामी दृष्टि के परिणाम स्वरूप आज भी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ बिना किसी यश,गौरव,प्रसिद्धि की चाह रखे राष्ट्र हित के कार्यों में …

Read More

15 August:आखिर 15 अगस्त को ही क्यों मनाते हैं स्वतंत्रता दिवस

हर वर्ष हम 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाते हैं लेकिन क्या कभी आपने यह जानने की कोशिश की कि आखिर 15 अगस्त को ही हम को आजादी क्यों मिली …

Read More

जानें, राजस्थान के महान क्रांतिकारी और कवि केसरी सिंह बाहरठ की अनुपम जीवनी-

महान क्रांतिकारी केसरी सिंह बाहरठ एक महान कवि होने के साथ-साथ भारत के स्वतंत्रता संग्राम के सेनानी भी रहे। राजस्थान राज्य के चारण समुदाय में जन्मे केसरी सिंह बाल्यकाल से …

Read More

Bhagwati Charan Vohra: भगवतीचरण वोहरा मां भारती के सच्चे सपूत

भगवती चरण वोहरा स्वतंत्रता संग्राम के महान क्रांतिकारी थे। भगत सिंह तथा सुखदेव के साथ मिलकर उन्होंने अनेक क्रांतिकारी गतिविधियों में हिस्सा लिया था। वे “हिंदुस्तान प्रजातांत्रिक सोसाइटी पार्टी” के …

Read More
65 बलिदानी नामधारियों की शौर्यगाथा, मातृभूमि और गौरक्षा के लिए तोप से उड़ना किया स्वीकार!

65 बलिदानी नामधारियों की शौर्यगाथा, मातृभूमि और गौरक्षा के लिए तोप से उड़ना किया स्वीकार!

जो बोले सो निहाल, सत श्री अकाल,वाहे गुरु जी की खालसा, वाहे गुरु जी की फतेह’सिख धर्म शांति और न्याय की प्रतिमूर्ति है। इस धर्म में संगत और पंगत दो …

Read More
जानें, क्यों शाहजहांपुर को शहीदों का शहर कहा जाता है

जानें, क्यों शाहजहांपुर को शहीदों का शहर कहा जाता है

है प्रीत जहाँ की रीत सदामैं गीत वहाँ के गाता हूँभारत का रहने वाला हूँभारत की बात सुनाता हूँ यह गाना सुनकर दिल भाव भिवोर हो जाता है। यह वही …

Read More

विदेश में भी स्वतंत्रता की अलख जगाने वाले क्रांतिकारी मदनलाल ढींगरा-

भारत माता के सच्चे सपूत मदनलाल ढींगरा, पारिवारिक तौर पर तो कोई स्वतंत्रता सेनानी नहीं थे, परंतु निजरुचि से उन्होंने देश के लिए कुछ कर गुजरने की अलख अपने अंदर …

Read More
जानें, मुजफ्फरपुर में क्रांति की बिगुल फूंकने वाले वीर सपूत शहीद खुदीराम बोस की जीवनी

जानें, मुजफ्फरपुर में क्रांति की बिगुल फूंकने वाले वीर सपूत शहीद खुदीराम बोस की जीवनी

महान क्रन्तिकारी और देश के सबसे कम उम्र में शहीद होने वाले खुदीराम बोस जी का जन्म 3 दिसंबर 1889 को पश्चिम बंगाल के मिदनापुर जिले में हुआ था। इनके …

Read More
जानें, महान क्रन्तिकारी अशफ़ाक़ उल्ला ख़ाँ की जीवनी

जानें, महान क्रन्तिकारी अशफ़ाक़ उल्ला ख़ाँ की जीवनी

महान क्रन्तिकारी अशफ़ाक़ उल्ला ख़ाँ का जन्म 22 अक्टूबर 1900 को उत्तर प्रदेश के शाहजहाँपुर में हुआ था। इनके पिता का नाम मोहम्मद शफीक उल्ला ख़ाँ और माता का ना …

Read More

15 August :जानिए कौन था बाघ जैसे साहस वाला क्रांतिकारी “बाघा जतिन”-

भारत माता को अंग्रेजों की बेड़ियों से मुक्त कराने में कई ऐसे स्वतंत्रता सेनानियों का योगदान था जिनको इतिहास के पन्नों में कहीं दबा दिया गया, जतीन्द्र नाथ मुखर्जी को …

Read More
kargil heroes

चीन में ४ जून का वो तियानमेन चौक नरसंहार

कम्युनिस्टों द्वारा किए गए नरसंहार का इतिहास चीन में कम्युनिस्ट सरकार 1949 से अस्तित्व में हैं।  चीन में कम्युनिस्ट शासन की शुरुआत नरसंहारों से हुई थी।  1948-1951 यानि तीन सालों में 10,00,000 से भी ज्यादा …

Read More

भगतसिंह की वीर माता विद्यावती कौर

पुण्य तिथि – 1 जून। इतिहास इस बात का साक्षी है कि देश, धर्म और समाज की सेवा में अपना जीवन अर्पण करने वालों के मन पर ऐसे संस्कार उनकी …

Read More

तपस्वी राजमाता अहल्याबाई होल्कर

जन्म दिवस – 31 मई। भारत में जिन महिलाओं का जीवन आदर्श, वीरता, त्याग तथा देशभक्ति के लिए सदा याद किया जाता है, उनमें रानी अहल्याबाई होल्कर का नाम प्रमुख …

Read More

सिख धर्म के पांचवें गुरु श्री अर्जुनदेव जी

बलिदान दिवस – 30 मई। हिन्दू धर्म और भारत की रक्षा के लिए यों तो अनेक वीरों एवं महान् आत्माओं ने अपने प्राण अर्पण किये हैं; पर उनमें भी सिख गुरुओं …

Read More

स्वातंत्र्यवीर, वीर सावरकर जी के जीवन से जुड़ी कुछ बातें

भारत के अधिकांश लोग आज उस चहरे को भूल गए हैं जिनसे कभी अंग्रेज लोग थर-थर काँप उठते थे। जिन्होंने केवल भारत में ही नहीं, अंग्रेजो के गढ़ लंदन में …

Read More

क्रान्तिकारियों के सिरमौर वीर सावरकर

विनायक दामोदर सावरकर का जन्म ग्राम भगूर (जिला नासिक, महाराष्ट्र) में 28 मई, 1883 को हुआ था। छात्र जीवन में इन पर लोकमान्य तिलक के समाचार पत्र ‘केसरी’ का बहुत …

Read More

क्रान्तिकारी रासबिहारी बोस

25 मई/जन्म-दिवस। बीसवीं सदी के पूर्वार्द्ध में प्रत्येक देशवासी के मन में भारत माता की दासता की बेडि़याँ काटने की उत्कट अभिलाषा जोर मार रही थी। कुछ लोग शान्ति के मार्ग …

Read More

आतंकवाद में दृढ़ चट्टान विश्वनाथ जी

24 मई/पुण्य-तिथि। अस्सी के दशक में जब पंजाब में आतंकवाद अपने चरम पर था, उन दिनों बड़ी संख्या में लोग पंजाब छोड़कर अन्य प्रान्तों में जा बसे थे। ऐसे में …

Read More

क्यों भूले हम लाचित को!

जो देश अपने सपूतों को भूल जाता है उस देश के आत्मसम्मान को हीनता की दीमक चट कर जाता है। आक्रांताओं से लोहा लेकर देश की अस्मिता की रक्षा करने …

Read More

सीमाओं के मायने

सदियों से बनती-बिगड़ती एवम् नया रूप लेती सीमाएँ गाथा है शौर्य की, बलिदान, त्याग, रणनीति एवम् वैचारिक दृढ़ता की। सीमाएँ गाथा इन मूल्यों के कमज़ोर पड़ने की भी है। अतिश्योक्ति …

Read More