राम मंदिर ‘भूमिपूजन’ समारोह पर मंडराया आतंक का खतरा, सेना ने संभाला मोर्चा

राम मंदिर ‘भूमिपूजन’ समारोह पर मंडराया आतंक का खतरा, सेना ने संभाला मोर्चा

एक तरफ जहां राम मंदिर ‘भूमिपूजन’ समारोह की तैयारी जोर शोर से है। वहीं, दूसरी तरफ रिसर्च एंड एनालिसिस विंग किसी भी तरह की अप्रिय घटना को रोकने में जुटी है। इस क्रम में रिसर्च एंड एनालिसिस विंग ने उत्तर प्रदेश पुलिस समेत सभी ख़ुफ़िया एजेंसी को आगाह किया है कि पाक समर्थित आतंकी राम मंदिर ‘भूमिपूजन’ समारोह में खलल डालने की कोशिश कर सकते हैं। इसके लिए आईएसआई ने लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद को हमले की जिम्मेवारी दी है।

इस बात की पुष्टि रॉ ने आधिकारिक रूप से की है, जिसमें बताया गया है कि पाक समर्थित आतंकी संगठन ने कुछ आतंकियों को सीमापार भेजा है, जो घटना को अंजाम देने वाले हैं। इस इनपुट में यह भी कहा गया है कि आतंकी किसी बड़े घटना को अंजाम देने के बजाय छोटे समूह में हमला कर सकते हैं।

इस खबर के बाद सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए जा रहे हैं। इस दिन कश्मीर के पुनर्गठन का वार्षिकोत्स्व भी है। 5 अगस्त 2019 को जम्मू-कश्मीर में धारा 370 और 35 ए निरस्त कर केंद्रशासित प्रदेश का दर्जा दिया गया था। इसके तहत लद्दाख को कश्मीर से अलग कर एक नया केंद्रशासित प्रदेश बनाया गया था। इस मद्देनजर आईएसआई भारत में बड़े हमले की तैयारी में है।

आपको बता दें कि पांच अगस्त को होने वाले राम मंदिर ‘भूमिपूजन’ समारोह में पीएम मोदी उपस्थित रहेंगे। साथ ही लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती भी मौजूद रहेंगे। जबकि आरएसएस के बड़े नेताओं समेत साधु और संत भी उपस्थित रहेंगे। इस समारोह का भव्य आयोजन किया जा रहा है।
इस बीच रॉ के इनपुट के बाद स्थानीय प्रशासन सकते में आ गई है। इसके लिए सुरक्षा की पुख्ता इंतज़ाम किए जा रहे हैं। रामलला पूरी तरह से छावनी में बदल गई है। किसी भी बाहरी आदमी को आने-जाने की अनुमति नहीं दी जा रही है। इसके लिए पास सुविधा सेवा की शुरुआत की गई है। घर-घर जाकर छानबीन की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *